सुषमा स्‍वराज से जुड़े 10 रोचक तथ्य | 10 Interesting Facts About Sushma Swaraj - Tenfacts

Breaking

Friday, May 25, 2018

सुषमा स्‍वराज से जुड़े 10 रोचक तथ्य | 10 Interesting Facts About Sushma Swaraj

सुषमा स्‍वराज से जुड़े 10 रोचक तथ्य | 10 Interesting Facts About Sushma Swaraj

10 Interesting Facts About Sushma Swaraj

हेलो दोस्तों Tenfacts मे आपका स्वागत है। आज हम आपको विदेश मंत्री सुषमा स्‍वराज से जुड़े 10 रोचक तथ्य के बारे में बताएंगे, जो शायद ही आप जानते होंगे, तो आइए जानते हैं।

14 फरवरी 1952 को जन्‍म लेने वाली सुषमा स्‍वराज आज के दौर में महिला स‍शक्तिकरण के प्रतिनिधित्‍व का मजबूत उदाहरण है। एक ओर जहां भारत की विदेश मंत्री के रूप में उन्‍होंने एक सक्षम नेता के रूप में खुद को स्‍थापित किया है वहीं सोशल मीडिया पर अपनी मजबूत उपस्थ्‍िाति और सक्रियता से लोगों में लोकप्रिय भी हो रही है।कोई भी भारतीय किसी भी देश में परेशानी में फंसा हो सुषमा बस उनके एक छोटे से ट्वीट पर तत्‍परता से उनकी मदद करती हैं। यही रवैया उनका विदेशियों के लिए भी है।सुषमा की यह लोकप्रयिता आज की बात नहीं है वो काफी कम उम्र से ही अपने ओजस्‍वी वक्‍तव्‍य से उन्‍होंने लोगों को लीड कर रही है। आज हम आपको उनसे जुड़े 10 ऐसे तथ्य बताएंगे जिनके बारे में बहुत ही कम लोगों को जानकारी है।

1. राजनीति में आने से पहले सुषमा स्वराज का पेशा वकालत था।उन्होंने 1973 में सुप्रीम कोर्ट में वकालत शुरू की थी तथा उन्हें भारत की पहली महिला विदेश मंत्री होने का सौभाग्य प्राप्‍त हुआ है।

2. उन्होंने वर्ष 1977 में महज 25 साल की उम्र में हरियाणा की कैबिनेट मंत्री बन कर रिकॉर्ड बनाया। 1975 में पहली बार हरियाणा विधान सभा का चुनाव जीती। वह देश के किसी भी राज्य में सबसे कम उम्र की कैबिनेट मंत्री रह चुकी है।

3. इसी प्रकार सुषमा स्वराज भारत की संसद में सर्वश्रेष्ठ सांसद का पुरस्कार हासिल करने वाली पहली महिला भी हैं।

4. सुषमा स्वराज और उनके पति स्‍वराज कौशल की उपलब्धियों के रिकार्ड लिम्का बुक ऑफ व‌र्ल्ड रिकार्ड में दर्ज़ करते हुए उन्हें विशेष दम्पत्ति का स्थान दिया गया है।

5. सुषमा स्वराज वर्ष 2009 में भाजपा द्वारा संसद में विपक्ष की नेता चुनी गयी थीं, इस नाते वे भारत की पन्द्रहवीं लोकसभा में प्रतिपक्ष की नेता रही हैं।

6. सुषमा स्वराज के नाम नाम देश की राजधानी दिल्ली की पहली महिला मुख्यमंत्री होने का भी रिकॉर्ड है ।

7. देश में किसी राजनीतिक दल की पहली महिला प्रवक्ता बनने की उपलब्धि भी सुषमा स्वराज के नाम ही दर्ज है।

8. एक समय सुषमा अंबाला के एसडी कॉलेज की बेस्ट एनसीसी कैडेट हुआ करती थी। पंजाब विश्वविद्यालय द्वारा 1973 में उन्हें सर्वोच्च वक्ता का सम्मान भी दिया गया था।

9. सुषमा शुरू से ही आर्मी ज्वॉइन करना चाहती थी, लेकिन उस समय आर्मी में महिलाओं की भर्ती की अनुमति नहीं मिलने के कारण वह अपना सपना पूरा नहीं कर पाई।

10 सुषमा स्वराज पाकिस्तान की जनता के बीच काफी लोकप्रिय हैं। पाकिस्तान में उनकी लोकप्रियता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि एक पाकिस्तानी महिला ने उन्हें अपना प्रधानमंत्री बनाने की इच्छा जताई थी।

अगर आपको यह पोस्ट अच्छा लगे तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करना ना भूलें

No comments:

Post a Comment